23 जनवरी 2013, 11:03

रूस की राजधानी मास्को के दक्षिण-पश्चिम में स्थित स्कूल नं. 1279 में भारत का गणतंत्र दिवस मनाने के लिए

रूस की राजधानी मास्को के दक्षिण-पश्चिम में स्थित स्कूल नं. 1279 में भारत का गणतंत्र दिवस मनाने के लिए तैयारी शुरू हो गई है। वहाँ आधुनिक भारत, उसके इतिहास और रूसी-भारतीय संबंधों के विकास के विषयों पर वीडियो और दस्तावेज़ी फिल्मों की सहयाता से विशेष कक्षाओं का आयोजन किया गया है। अभी हाल ही में, कक्षाओं के बाद इसी स्कूल में स्थित रवीन्द्रनाथ टैगोर संग्रहालय के हाल में इस महान भारतीय कवि की रचनाओँ- गीतों तथा कविताओं की एक सन्ध्या का आयोजन किया गया था। ये रचनाएं विभिन्न कक्षाओँ के छात्रों द्वारा प्रस्तुत की गईं। रवीन्द्रनाथ टैगोर की एक कविता- "पहले दिन का सूरज" को सातवीं कक्षा की छात्राएँ, वीका कलमिकोवा और अल्योना निकीतिना ने प्रस्तुत किया।

स्कूल नं. 1279 की निदेशक राइसा अनिसीमोवा ने बताया कि हमारे स्कूल के छात्र-छात्राओं की भारत में गहरी दिलतस्पी है। आधी सदी पहले, जब हमारे देश और भारत के बीच आर्थिक और सांस्कृतिक सहयोग बढ़ने लगा था, तब रवीन्द्रनाथ टैगोर, मुन्शी प्रेमचंद और अन्य भारतीय लेखकों की रूसी भाषा में प्रकाशित पुस्तकें हमारे स्कूल के पुस्तकालय में आने लगीं थीं। कई भारतीय मेहमान भी हमारे पास आने लगे। राइसा अनिसीमोवा के शब्दों में-

हमें इस बात पर गर्व है कि जब पिछली सदी के सातवें दशक में भारत की तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने मास्को की यात्रा की थी तो वह हमारे स्कूल में भी आई थीं। उन्होंने अपने आटोग्राफ़ वाला अपना एक छाया-चित्र हमें उपहार के रूप में प्रदान किया था। इस छाया-चित्र का हमारे संग्रहालय की फोटो प्रदर्शनी में अति महत्वपूर्ण स्थान है। बाद में प्रधानमंत्री राजीव गांधी और कई अन्य भारतीय नेता भी हमारे स्कूल में आए थे। हमारे स्कूल के पुस्तकालय में भारतीय लेखकों की कई पुस्तकें, भारतीय पत्र-पत्रिकाएँ मौजूद हैं। हमारे स्कूल में पढ़ रहे छात्रों की सभी पीढ़ियाँ हमारे मित्र-देश भारत के बारे में, भारत की संस्कृति, साहित्य के बारे में अधिक से अधिक जानकारी हासिल करने की कोशिश करते हैं। वैज्ञानिक और आर्थिक क्षेत्रों में भारत की उपलब्धियों संबंधी जानकारी हासिल करने में भी उनकी गहरी दिलतस्पी है।

इस स्कूल में टैगोर जयंती और अन्य भारतीय त्यौहारों को नियमित रूप से मनाया जाता है। इन त्यौहारों को समर्पित भव्य समारोहों में इस स्कूल के लगभग सभी 800 छात्र-छात्राएँ भाग लेते हैं। कोई टैगोर और अन्य भारतीय लेखकों की रचनाओं के आधार पर नाटक तैयार करता है, कोई भारतीय नृत्यों और गीतों का रंगारंग कार्यक्रम बनाता है तो कोई मंच को सजाने का काम करता है। इस स्कूल में ऐसे छात्र-छात्राएँ भी हैं जो भारत को समर्पित फ़ोटो प्रदर्शनियों के लिए तैयारियां करते हैं।

महानगरीय स्कूल № 1279 में स्थित टैगोर क्लब के कार्यकर्ता 26 जनवरी को भारत के गणतंत्र दिवस को समर्पित जश्नों में भाग लेने के लिए मास्को स्थित भारतीय दूतावास के सांस्कृतिक केंद्र में जाएँगे। उनके द्वारा बड़े उत्साह और ज़िम्मेदारी की भावना से तैयार किया जा रहा एक विशेष कार्यक्रम वहाँ प्रस्तुत किया जाएगा। इस सिलसिले में वीका कलमिकोवा और अल्योना निकीतिना ने रेडियो रूस को बताया-

हमारा यह कार्यक्रम भारत के गणतंत्र दिवस के अवसर पर हमारे भारतीय मित्रों के लिए एक बधाई-संदेश के रूप में प्रस्तुत किया जाएगा। हम अपने भारतीय साथियों को गणतंत्र दिवस की बधाई और खुश़हाली तथा सफलताओं की हार्दिक शुभ-कामनाएँ देनी चाहती हैं। हमारी अपने भारतीय साथियों के साथ पत्राचार करने की बहुत प्रबल इच्छा है! हमारे स्कूल के कई अन्य छात्र भी भारतीय स्कूली बच्चों के साथ पत्राचार करने के इच्छुक हैं।

दोस्तो, हम आपको बता देते हैं कि यदि आप में से हमारा कोई भी श्रोता मास्को के स्कूल नं. 1279 के छात्र-छात्राओं के साथ पत्राचार करना चाहता है तो वह इसके बारे में www.1279.ru लिंक पर जाकर ज़रूरी जानकारी हासिल कर सकता है। आप वीका कलमिकोवा और अल्योना निकीतिना के अलावा इस स्कूल के अन्य छात्र-छात्राओं से सीधा पत्राचार कर सकते हैं। और अगर आप चाहें तो उनके लिए अपने पत्र रेडियो रूस के पते पर भी भेज सकते हैं। हम आपके पत्र इन छात्रों तक पहुँचा देंगे। कृपया, अपने पत्र के किसी एक कोने पर स्कूल नं. 1279 ज़रूर लिख देना।

26 जनवरी को मनाए जा रहे भारत के गणतंत्र दिवस को समर्पित भव्य समारोहों का आयोजन मास्को के अलावा सेंट-पीटर्सबर्ग, कज़ान, व्लादिवस्तोक और अन्य रूसी नगरों के स्कूलों में भी किया जा रहा है।

  •  
    और शेयर
क्या आप प्रसिद्ध होना चाहते हैं?
 
ई-मेल